UP Bhulekh 2021 – यूपी भूलेख ऑनलाइन खसरा खतौनी नकल

Author:


Uttar Pradesh Bhulekh | भूलेख ऑनलाइन खसरा खतौनी नकल | Uttar Pradesh Bhulekh Online | upbhulekh.gov.in | UP Bhulekh 2022 | यूपी भूलेख ऑनलाइन

यूपी भूलेख खसरा नक़ल देखने की प्रक्रिया, UP Bhulekh के लाभ, Uttar Pradesh Bhulekh पोर्टल की अन्य जानकारी आपको इस लेख में प्रदान की जाएगी। इस पोर्टल के माध्यम से राज्य के सभी नागरिकों को उनकी जमीन से जुडी सभी जानकारी ऑनलाइन प्रदान की गयी है, जिसके माध्यम से राज्य के नागरिकों को कहीं जाने की आवश्यकता नहीं होगी, वे अपनी भूमि से जुडी सभी जानकारी वेबसाइट पर ही देख सकेंगे। हम जानते हैं कि हमारे देश में भूमि से सम्बंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए, पटवारी के दफ्तर जाना पड़ता था, जिससे नागरिको को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता था। ऐसी स्थिति में उनको समय और दोनों खर्च करना पड़ता था, जिससे उनको नुकसान उठाना पड़ता था। इसी समस्या को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा UP Bhulekh की जानकारी वेबसाइट पर प्रदान की जा रही है। उत्तर प्रदेश की नई सूची में अपना नाम कैसे देखे: Click Here

Table of Contents

यूपी भूलेख खसरा खतौनी नकल

इस भूलेख को देश के अलग-अलग स्थानों में कई नाम दिए गए हैं, जिससे हम इसे सम्बोधित करते हैं- जैसे कि भूमि के रिकॉर्ड, खेत के कागजात, खेत का नक्शा, भूमि का विवरण, खाते आदि। उत्तर प्रदेश के लोगों की भूमि के रिकॉर्ड को कंप्यूटरीकृत करने के लिए UP Bhulekh की एक आधिकारिक वेबसाइट शुरू की गयी है, जिससे कि लोग घर बैठे ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से अपनी जमीन का सारा विवरण आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। यूपी भूलेख वेब पोर्टल को उत्तर प्रदेश के भूमि रिकॉर्ड को इस तरह से कम्प्यूटरीकृत करने के लिए बनाया गया है जिससे कि भूमि रिकॉर्ड की दैनिक गतिविधियों को सुव्यवस्थित किया जा सके। हम जानते हैं, राज्य के नागरिकों को भूमि का विवरण प्राप्त करने के लिए पटवारी के कार्यालय में जाना पड़ता, जिससे समय और धन दोनों का ही नुक्सान होता था। लेकिन इस वेबसाइट के माध्यम से किसी को कहीं जाने की आवश्यकता नहीं है, अब आसानी ऑनलाइन भूमि का विवरण प्राप्त किया जा सकेगा। [यह भी पढ़े- झटपट बिजली कनेक्शन योजना: UPPCL Jhatpat Connection @uppcl.org/jhatpatconn]

UP Bhulekh

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की योजनाएं

UP Bhulekh Overviews

पोर्टल का नाम UP Bhulekh Land Records, Khasra Khatauni
वर्ष 2022
आरम्भ की गई उत्तर प्रदेश सरकार
भू-अभिलेखों का कंप्यूटरीकरण 2 मई 2016 
लाभार्थी उत्तर प्रदेश के नागरिक
उद्देश्य सभी भूमि से संबंधित रिकॉर्ड को ऑनलाइन उपलब्ध करवाना।
श्रेणी उत्तर प्रदेश सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइट http://upbhulekh.gov.in/

यूपी भूलेख पोर्टल

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किये गए upbhulekh.gov.in पोर्टल के माध्यम से राज्य के नागरिक अपनी जमीन का विवरण देख सकते हैं, साथ आप अपने मालिकाना अधिकार की भी पुष्टि कर सकते हैं। हम जानते हैं, कि इस पोर्टल पर प्रदान की जाने वाली जमीन से जुडी सभी जानकारी बिलकुल सही होती है, जिससे राज्य के नागरिकों में इस ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से पारदर्शिता भी आयी है। हम जानते हैं कि उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल की सुविधा से पहले राज्य के नागरिकों को अपनी भूमि से सम्बंधित जैसे- जमाबंदी, खसरा, खतौनी, भूमि का नक्शा तथा अन्य सभी जानकारी के लिए पटवारी के सरकारी कार्यालय में जाना पड़ता था, जिससे लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा है। लेकिन अब उत्तर प्रदेश के नागरिक घर बैठे ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से UP Bhulekh की आधिकारिक वेबसाइट से सभी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। [यह भी पढ़े- UP COVID-19 Beds Availability Status: CORONA Beds Free Beds Dashboard]

उत्तर प्रदेश की कुछ महत्वपूर्ण योजनाएँ:-

उत्तर प्रदेश वरासत अभियान

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के माध्यम से यूपी वरासत अभियान शुरू किया गया है, जिसके के तहत विवादित उत्तराधिकार खतौनी में दर्ज किया जाएगा। इस अभियान को 15 दिसंबर 2020 से 15 फरवरी 2021 तक चलाया जाएगा। उत्तर प्रदेश वरासत अभियान के सफल कार्यान्वयन के लिए सरकार द्वारा एक हेल्पलाइन नंबर और ईमेल आईडी भी जारी की गयी है। इस अभियान के पूरा होने के बाद, सरकार से टीमों को जिलों में भेजा जाएगा, जिसके माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाएगा कि निर्विवाद उत्तराधिकार का कोई मामला खतौनी में दर्ज न हो। [यह भी पढ़े- मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना 2021: UP Yuva Swarojgar Yojana ऑनलाइन आवेदन]

यूपी वरासत अभियान का संपर्क केंद्र

उत्तर प्रदेश वरासत अभियान के लिए सरकार द्वारा हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है। आप नीचे दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। आप CM हेल्पलाइन से भी संपर्क कर सकते हैं, जिससे आपकी समस्या का समाधान हो सकेगा। इसके अलावा, आप अपनी सभी शिकायतें ईमेल के माध्यम से दर्ज कर सकते हैं-

  • Helpline Number – 0522-2620477
  • E-Mail ID – [email protected]
  • CM Helpline Number – 1076

UP Voter List

उत्तर प्रदेश वरासत अभियान अनुसूची

राजस्व/तहसील अधिकारियों द्वारा वरासत हेतु प्रार्थना पत्र लेना तथा उसे ऑनलाइन करने की प्रक्रिया 15 दिसंबर 2020 से 30 दिसंबर 2020
लेखपालों द्वारा ऑनलाइन जांच की प्रक्रिया 31 दिसंबर 2020 से 15 जनवरी 2021
राजस्व निरीक्षक द्वारा जांच का आदेश पारित करने की प्रक्रिया 16 जनवरी 2021 से 31 जनवरी 2021
यह सुनिश्चित करना कि यूपी में उत्तराधिकार विवाद का कोई भी प्रकरण दर्ज होने से शेष ना रहा हो 1 फरवरी 2021 से 7 फरवरी 2021
जिला अधिकारियों तथा अन्य अफसरों द्वारा निर्विवाद उत्तराधिकार के समस्त लंबित प्रकरणों को पूर्ण करना 8 फरवरी 2021 से 15 फरवरी 2021

उत्तर प्रदेश भूलेख का कंप्यूटरीकरण

भूमि के रिकॉर्ड की सभी जानकारी प्रदान करने के लिए डिजिटलीकरण की प्रक्रिया सरकार द्वारा जारी की जा रही है। इसी को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने upbhulekh.gov.in पोर्टल की शुरुआत की है। इस पोर्टल के तहत सभी भूमि रिकॉर्ड को कम्प्यूटरीकृत किया गया था। UP Bhulekh पोर्टल 2 मई 2016 को लॉन्च किया गया था, जिसे उत्तर प्रदेश की सभी तहसीलों में लागू किया गया है। उत्तर प्रदेश की सभी तहसीलों के भू-अभिलेखों की जानकारी इस पोर्टल पर उपलब्ध है। इस पोर्टल के माध्यम से दैनिक भूमि रिकॉर्ड की गतिविधियों का आयोजन किया जा सकता है। इस पोर्टल पर लैंड रिकॉर्ड डेटा, लैंड रिकॉर्ड मालिक की जानकारी, लैंड रिकॉर्ड की जानकारी आदि देखी जा सकती है। इस पोर्टल के माध्यम से सिस्टम में पारदर्शिता भी आएगी और समय और धन दोनों की बचत होगी। इस पोर्टल के ज़रिये राज्य के नागरिक UP Bhulekh Map की भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। [यह भी पढ़े- यूपी आसान किस्त योजना 2021 | UP Asan Kist Yojana, ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन]

पालनहार योजना

यूपी भूलेख का उद्देश्य

हम जानते हैं कि हमारे देश में भूमि के रिकॉर्ड रखने के लिए दस्तावेजों का उपयोग किया जाता है। सरकारी कार्यालय में कई बार इन दस्तावेजों में गड़बड़ी पायी जाती थी, जिससे देश के नागरिकों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता था। सरकारी कार्यालय के किसी भी कार्य में कोई पारदर्शिता नजर नहीं आती थी। इसी समस्या को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा UP Bhulekh पोर्टल की शुरुआत की गयी है। यूपी भूलेख का मुख्य उद्देश्य यह है कि राज्य में रहने वाले नागरिकों की भूमि का विवरण ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से नागरिकों तक पहुँचाना है। इस कंप्यूटरीकरण प्रणाली के माध्यम से भूमि के रिकॉर्ड को सुव्यवस्थित रखा जाता है, जिससे रिकॉर्ड में किसी भी  प्रकार की गड़बड़ी न पायी जाये। इस ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से घर बैठे आधिकारिक वेबसाइट पर अपनी भूमि के विवरण की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, जिसके लिए नागरिकों की कहीं जाने की आवश्यकता नहीं होगी। [यह भी पढ़े- IGRSUP: यूपी सम्पत्ति एवं विवाह पंजीकरण 2021 | UP Property Registration, (igrsup.gov.in)]

यूपी भूलेख ऑनलाइन जिलेवार सूची

आप दी गयी सूची के माध्यम से अपने क्षेत्र के अनुसार लैंड रिकॉर्ड यूपी भूलेख की जानकारी को प्राप्त कर सकते हैं। 

बदायूं कानपुर नगर
ललितपुर कन्नौज
अंबेडकर नगर कानपुर देहात
बागपत झांसी
अमरोहा महोबा
औरैया कौशांबी
अयोध्या खेरी
आजमगढ़ कुशीनगर
अमेठी अलीगढ़
बहराइच लखनऊ
बलिया कासगंज
बलरामपुर महाराजगंज
बांदा मणिपुर
बाराबंकी मथुरा
बरेली मऊ
बस्ती मेरठ
बिजनौर मिर्जापुर
आगरा मुरादाबाद
बुलंदशहर मुजफ्फरनगर
चंदौली पीलीभीत
संभल गाजियाबाद
देवरिया शाहजहांपुर
सीतापुर रायबरेली
इटावा रामपुर
फर्रुखाबाद सहारनपुर
फतेहपुर चित्रकूट
फिरोजाबाद संत कबीर नगर
गौतम बुद्ध नगर संत रविदास नगर
प्रतापगढ़ प्रयागराज
गाजीपुर शामली
गोंडा श्रावस्ती
जलाऊं सिद्धार्थनगर
हमीरपुर एटा
हापुर सोनभद्रआ
हरदोई सुल्तानपुर
हाथरस उन्नाव
वाराणसी गोरखपुर

Type of Lands – उत्तर प्रदेश भूमि प्रकार सूची

क्रम स. भूमि प्रकार भूमि प्रकार का विवरण भूमि प्रकार का कोड(गाटा यूनिक कोड का 15-16 अंक)
1 1 ऐसी भूमि, जिसमें सरकार अथवा गाँवसभा या अन्य स्थानीय अधिकारिकी जिसे1950 ई. के उ. प्र. ज. वि.एवं भू. व्य. अधि.की धारा 117 – क के अधीन भूमि का प्रबन्ध सौंपा गया हो , खेती करता हो । 11
2 1-क भूमि जो संक्रमणीय भूमिधरों केअधिकार में हो। 12
3 1क(क) रिक्त 13
4 1-ख ऐसी भूमि जो गवर्नमेंट ग्रांट एक्ट केअन्तर्गत व्यक्तियों के पास हो । 14
5 2 भूमि जो असंक्रमणीय भूमिधरो केअधिकार में हो। 21
6 3 भूमि जो असामियों के अध्यासन या अधिकारमें हो। 31
7 4 भूमि जो उस दशा में बिना आगम केअध्यासीनों के अधिकार में हो जब खसरेके स्तम्भ 4 में पहले से ही किसी व्यक्तिका नाम अभिलिखित न हो। 41
8 4-क उ.प्र. अधिकतम जोत सीमा आरोपण.अधि.अन्तर्गत अर्जित की गई अतिरिक्त भूमि -(क)जो उ.प्र.जोत सी.आ.अ.के उपबन्धो केअधीन किसी अन्तरिम अवधि के लिये किसी पट्टेदार द्वारा रखी गयी हो । 42
9 4-क(ख) अन्य भूमि । 43
10 5-1 कृषि योग्य भूमि – नई परती (परतीजदीद) 51
11 5-2 कृषि योग्य भूमि – पुरानी परती (परतीकदीम) 52
12 5-3-क कृषि योग्य बंजर – इमारती लकड़ी केवन। 53
13 5-3-ख कृषि योग्य बंजर – ऐसे वन जिसमें अन्यप्रकर के वृक्ष,झाडि़यों के झुन्ड,झाडि़याँ इत्यादि हों। 54
14 5-3-ग कृषि योग्य बंजर – स्थाई पशुचर भूमि तथा अन्य चराई की भूमियाँ । 55
15 5-3-घ कृषि योग्य बंजर – छप्पर छाने की घास तथा बाँस की कोठियाँ । 56
16 5-3-ङ अन्य कृषि योग्य बंजर भूमि। 57
17 5-क (क) वन भूमि जिस पर अनु.जन. व अन्य परम्परागत वन निवासी (वनाधिकारों की मान्यत्ाा) अधि. – 2006 के अन्तर्गत वनाधिकार दिये गये हों – कृषि हेतु 58
18 5-क (ख) वन भूमि जिस पर अनु.जन. व अन्य परम्परागत वन निवासी (वनाधिकारों की मान्यत्ाा) अधि. – 2006 के अन्तर्गत वनाधिकार दिये गये हों – आबादी हेतु 59
19 5-क (ग) वन भूमि जिस पर अनु.जन. व अन्य परम्परागत वन निवासी (वनाधिकारों की मान्यत्ाा) अधि. – 2006 के अन्तर्गत वनाधिकार दिये गये हों – सामुदायिक वनाधिकार हेतु 60
20 6-1 अकृषिक भूमि – जलमग्न भूमि । 61
21 6-2 अकृषिक भूमि – स्थल, सड़कें, रेलवे,भवन और ऐसी दूसरी भूमियां जोअकृषित उपयोगों के काम में लायी जाती हो। 62
22 6-3 कब्रिस्तान और श्मशान (मरघट) , ऐसेकब्रस्तानों और श्मशानों को छोड़ करजो खातेदारों की भूमि या आबादी क्षेत्र में स्थित हो। 63
23 6-4 जो अन्य कारणों से अकृषित हो । 64
24 7 भूमि जो असामियों के अघ्यासन या अधिकारमें हो। 71
25 9 भूमि के ऐसे अध्यासीन जिन्होने खसरे के स्तम्भ 4 में उल्लिखित व्यकि्त की सम्मतिके बिना भूमि पर अधिकार कर लिया हो। 91

Benefits of Uttar Pradesh Bhulekh

  • इस कंप्यूटरीकरण प्रणाली के माध्यम से राज्य के नागरिक अपना खसरा नंबर और जमाबंदी नंबर के ज़रिये अपना भू-नक्शा प्राप्त कर सकते हैं।
  • यदि राज्य के नागरिक अपनी भूमि की जानकारी प्राप्त करना कहते हैं, तो वे आधिकारिक वेबसाइट पर घर बैठे जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  • इस ऑनलाइन उप भूलेख पोर्टल के माध्यम से राज्य के नागरिकों का धन और समय दोनों की बचत होगी।
  • उत्तर प्रदेश के नागरिकों को उप भूलेख के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए पटवार खेनों में जाने की आवश्यकता नहीं होगी।

उप भूलेख के मुख्य घटक

  • जमाबंदी/फर्द- जमाबंदी/फर्द के अंतर्गत मुख्य भूमि का विवरण शामिल किया जाता है जैसे – मालिक का नाम, खेती करने वाले का नाम, खसरा नंबर, जमीन, क्षेत्र, फसल का विवरण, पट्टे का विवरण आदि होता है।
  • खसरा संख्या- खसरा संख्या एक विशिष्ट भूखंड संख्या या सर्वेक्षण संख्या का प्रकार है, जो राज्य सरकार द्वारा कृषि भूमि को दिया जाता है।
  • खाता/खेवट संख्या- खाता या खेवट संख्या मालिकों के एक समूह को दी जाने वाली एक प्रकार की संख्या है, जिनके पास अलग-अलग खसरा संख्या की भूमि का एक हिस्सा होता है।
  • खतौनी संख्या- खतौनी संख्या एक प्रकार की संख्या है जो कृषकों के समूह को दी जाती है जो विभिन्न खसरा संख्याओं की भूमि के एक भाग की खेती करते हैं।

यूपी भूलेख जमाबंदी नक़ल खसरा खतौनी देखने की प्रक्रिया

उत्तर प्रदेश राज्य के जो नागरिक अपनी भूमि सम्बंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो उनको नीचे दिए गये चरणों का पालन करना होगा-

  • सबसे पहले आपको यूपी भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा।
यूपी भूलेख जमाबंदी नक़ल खसरा खतौनी
  • वेबसाइट के होम पेज आपको “खतौनी (अधिकार अभिलेख) की नक़ल देखें” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।
यूपी भूलेख जमाबंदी नक़ल खसरा खतौनी
  • इस पेज पर आपको कैप्चा कोड दर्ज करके सब्मिट  के बटन पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।
UP Bhulekh
  • अब आपको इस पेज पर पूछी गयी जानकारी का विवरण जैसे- जिला, तहसील, ग्राम, खसरा /खतौनी नंबर या सर्वे नंबर या पट्टे की जानकारी आदि का चयन कर लेना है। इसके बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।
  • इस पेज पर आप निम्न विकल्पों के माध्यम से अपनी जमीन की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं जैसे-
    • अपने खसरा /गाटा संख्या द्वारा खोजे
    • खाता संख्या द्वारा खोजे
    • खातेदार के नाम द्वारा खोजे
    • नामांतरण द्वारा खोजे
  • उपर्युक्त विकल्पों में किसी एक विकल्प पर क्लिक करके पूछी गयी जानकारी का विवरण दर्ज कर देना है।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपके सामने जमीन की जानकारी प्रदर्शित हो जाएगी।

UP Bhulekh Map Online Viewing Process

  • सबसे पहले आपको यूपी भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होम पेज आपको पूछी गयी जानकारी का विवरण जैसे- डिस्ट्रिक्ट, तहसील, विलेज आदि का चयन कर लेना है।
  • सभी आवश्यक जानकारी का विवरण चयन करने के बाद आपके सामने चयनित क्षेत्र का नक्शा प्रदर्षित हो जायेगा।
  • इसके बाद आपको खाताधारक का नाम देखने के लिए अपने फार्म नंबर पर क्लिक कर देना है।
  • अब आपको खाता संख्या प्रदर्शित हो जाएगी, इसके बाद आपको अपने अनुसार खाताधारक के नाम का चयन कर लेना है।
  • इसके बाद आप भूमि के नक़्शे का प्रिंट ले लेना है।

भू नक्शा कैसे डाउनलोड करें?

  • सबसे पहले आपको यूपी भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होम पेज आपको पूछी गयी जानकारी का विवरण जैसे- डिस्ट्रिक्ट, तहसील, विलेज आदि का चयन कर लेना है।
  • सभी आवश्यक जानकारी का चयन करने के बाद नक्शे में अपने खेत/प्लॉट के खसरा नंबर पर क्लिक कर देना है।
  • इसके बाद आपके सामने भू नक्शा प्रदर्शित हो जायेगा, जिसे आप डाउनलोड कर सकते हैं।

राजस्व ग्राम खतौनी का कोड कैसे जानें?

up bhulekh
  • इस पेज पर आपको पूछी गयी जानकारी का विवरण जैसे- जिले, तहसील तथा गांव का चयन कर लेना है।
  • सभी आवश्यक जानकारी का चयन करने के बाद आपके सामने राजस्व ग्राम खतौनी का कोड प्रदर्षित हो जायेगा।

राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति चेक करने की प्रक्रिया

UP Bhulekh
  • इसके बाद आपको इस फॉर्म में अपने जनपद का चयन कर देना है, और अपने तहसील और ग्राम का चयन कर देना है।
  • आपके द्वारा सभी जानकारी का चयन करने के बाद आपको अपने खसरा/गाटा संख्या को दर्ज कर देना है।
  • इसके बाद आपको सर्च के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • जैसे ही आप सर्च के विकल्प पर क्लिक करेंगे, तोआपके सामने संबंधित जानकारी आ जाएगी।

राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर देखने की प्रक्रिया

राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति
  • अब आपको इस पेज में अपने जिले का चयन कर देना है, और आपको आपके जिले के सामने दिए गए संख्या पर क्लिक कर देना है।
  • आपके द्वारा क्लिक करने के बाद, राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टरसे संबंधित जानकारी आपके सामने होगी।

भूखंड/गाटे का यूनिक कोड कैसे जानें?

  • सबसे पहले आपको यूपी भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होम पेज आपको “भूखंड/गाटे क्या यूनिकोड जाने” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।
  • इस पेज पर आपको पूछी गयी जानकारी का विवरण जैसे- जिले, तहसील तथा गांव का चयन कर लेना है।
  • सभी आवश्यक जानकारी का चयन करने के बाद आपके सामने भूखंड/गाटे का यूनिक कोड प्रदर्षित हो जायेगा।

भूखंड/गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति कैसे देखें?

  • सबसे पहले आपको यूपी भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होम पेज आपको “भूखंड/गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।
  • इस पेज पर आपको पूछी गयी जानकारी का विवरण जैसे- जिले, तहसील तथा गांव का चयन कर लेना है।
  • सभी आवश्यक जानकारी का चयन करने के बाद आपके सामने भूखंड/गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति से सम्बंधित जानकारी प्रदर्षित हो जाएगी।

निशक्रांत संपत्ति कैसे देखे?

  • सबसे पहले आपको राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आ जाएगा।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको निशक्रांत संपत्ति के विकल्प पर क्लिक कर देना है। अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आ जाएगा।
UP Bhulekh
  • इसके बाद आपको इस पेज पर अपने जनपद का चयन कर देना है, और आपको अपने तहसील का चयन कर देना है।
  • आपके द्वारा तहसील का चयन करने के बाद, निशक्रांत संपत्ति से संबंधित जानकारी आपके खुल कर आ जाएगी।

शत्रु संपत्ति कैसे देखे?

  • सबसे पहले आपको राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। अब आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आ जाएगा।
  • अब होमपेज पर आपको शत्रु संपत्ति के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलेगा, जिसमें आपको अपने जनपद का चयन करना होगा।
UP Bhulekh
  • अब आपको अपने तहसील का चयन कर देना है, और संबंधित जानकारी आपके सामने खुल कर आ जाएगी।

राजकीय आस्थान देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आ जाएगा।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको राजकीय आस्थान के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने एक फॉर्म खुल कर आ जाएगा।
UP Bhulekh
  • अब आपको इस फॉर्म में अपने जनपद और तहसील का चयन कर देना है।
  • आपके द्वारा सभी जानकारी का चयन करने के बाद, आपको सबमिट के बटन पर क्लिक कर देना है |
  • इसके बाद राजकीय आस्थान से संबंधित जानकारी आपके सामने खुल कर आ जाएगी |

दैनिक वाद तालिका की जांच कैसे करे?

  • सबसे पहले आपको राजस्व न्यायालय कंप्यूटरीकृत प्रबंधन प्रणाली की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको “वाद सूची” के सेक्शन से “दैनिक वाद तालिका” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने एक फॉर्म खुल जायेगा।
दैनिक वाद तालिका की जांच
  • इस फॉर्म में आपको पूछी गयी जानकारी का विवरण जैसे- स्तर, मण्डल, जनपद, तहसील, न्यायालय, सुनवाई तिथि आदि दर्ज कर देना है।
  • सभी आवश्यक जानकारी दर्ज करने के बाद आपको “प्रदर्शित करें” के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • इस प्रकार आपके सामने दैनिक वाद तालिका की जानकारी प्रदर्शित हो जाएगी।

खतौनी अंश निर्धारण की नकल देखने की प्रक्रिया

खतौनी अंश निर्धारण की नकल
  • इसके बाद आपको अपनी डिस्ट्रिक्ट का चयन करना होगा। और इसके बाद आपको अपनी तहसील का चयन करना होगा।
  • अब आपको अपने गांव का चयन करना होगा, इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलेगा, जिसमें आपको अपना खसरा/गाटा संख्या को भरना होगा।
  • अब आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना होगा, जैसे ही आप क्लिक करेंगे तो खतौनी अंश निर्धारण की नकल से सम्बन्धित जानकारी आपके सामने होगी |

पोर्टल पर लॉगिन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आएगा।
  • अब होम पेज पर आपको लॉगइन के विकल्प पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलेगा, जिसमें निम्नलिखित ऑप्शन आपके सामने खुलकर आएंगे।
पोर्टल पर लॉगिन
  • बोर्ड ऑफ रेवेन्यू एडमिनिस्ट्रेटर लॉगइन
  • अब आपको अपनी आवश्यकता के अनुसार विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको अपना यूजर नेम, पासवर्ड और कैप्चा कोड भरना होगा। अब आपको लॉगिन के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप लॉगिन के बटन पर क्लिक करेंगे तो आप पोर्टल पर लॉगिन हो जाएगे।

शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आ जायेगा।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको “शिकायत पंजीकरण” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। अब आपके सामने एक फॉर्म खुल कर आ जायेगा।
UP Bhulekh
  • इस फॉर्म में आपको पूछी गयी जानकारी को दर्ज कर देना है।
  • आपके द्वारा सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • इस तरह आपकी शिकायत पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

दर्ज शिकायत की स्थिति देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आ जायेगा।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको “शिकायत स्थिति जानें” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। अब आपके सामने एक फॉर्म खुल कर आ जायेगा।
UP Bhulekh
  • इस फॉर्म में आपको पूछी गयी जानकारी को दर्ज कर देना है।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको सर्च के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • इस तरह आपके सामने दर्ज शिकायत की स्थिति की जानकारी खुल कर आ जाएगी।

भूखंड/गाटे की विक्रय की स्थिति जाने

भूखंड/गाटे की विक्रय की स्थिति
  • इस फॉर्म में आपको अपने जिले, तहसील तथा गांव का चयन कर देना है, अब आपके सामने सामने भूखंड/गाटे के विक्रिये की स्थिति प्रदर्शित हो जाएगी।

राजकीय आस्थान देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आ जाएगा।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको राजकीय आस्थान के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
राजकीय आस्थान
  • इसके बाद आपके सामने एक फॉर्म खुलेगा, जिसमें आपको अपने जनपद और तहसील का चयन करना होगा।
  • सभी जानकारी का चयन करने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक कर देना है | इसके बाद राजकीय आस्थान से संबंधित जानकारी आपके डिवाइस पर खुल कर आ जाएगी।

परगना की सूची देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको राजस्व न्यायालय कंप्यूटरीकृत प्रबंधन प्रणाली, उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको “परगना” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा।
परगना
  • अब आपके सामने सूची में सभी परगना से संबंधित जानकारी दिखाई देगी ।

यूपी भूलेख मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको अपने मोबाइल फोन में अपने गूगल प्ले स्टोर  में जाना होगा। इसके बाद अब आपको सर्च बॉक्स में यूपी भूलेख डालना होगा।
  • अब आपको सर्च के विकल्प पर क्लिक करना होगा, जैसे ही आप क्लिक करेंगे तो आपके सामने एक सूची खुलकर आ जाएगी।
  • इसके बाद आपको सूची में सबसे ऊपर वाले विकल्प पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आपको इंस्टॉल के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप क्लिक करेंगे तो यू पी भूलेख मोबाइल ऐप आपके मोबाइल फोन में डाउनलोड होने लगेगा।

वाद दायर सुनवाई तिथि जाने

  • सबसे पहले आपको राजस्व न्यायालय कंप्यूटरीकृत प्रबंधन प्रणाली, उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको “वाद खोज विधि” के सेक्शन से “सुनवाई तिथि” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने एक फॉर्म खुल जायेगा।
वाद दायर सुनवाई तिथि
  • इस फॉर्म में आपको पूछी गयी जानकारी का विवरण जैसे- स्तर, मण्डल, जनपद, तहसील, न्यायालय, सुनवाई तिथि आदि दर्ज कर देना है।
  • सभी आवश्यक जानकारी दर्ज करने के बाद आपको “प्रदर्शित करें” के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • इस प्रकार आपके सामने वाद दायर सुनवाई तिथि की जानकारी प्रदर्शित हो जाएगी।

राजस्व ग्राम खतौनी का कोड जाने

राजस्व ग्राम खतौनी का कोड
  • अब इस फॉर्म में आपको अपने जिले, तहसील तथा गांव का चयन कर देना है।
  • इसके बाद आपके सामने राजस्व ग्राम खतौनी का कोड प्रदर्शित हो जायेगा।

सम्पर्क सूत्र

राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश में स्थापित टेलीफोन नंबरों की लिस्ट

क्रम संख्या नाम पद दूरभाष संख्या
1 श्री योगी आदित्य नाथ मा0 मुख्यमंत्री 0522-2239298
2   मा0 राजस्व मंत्री(MOS) 0522-2238058
3 श्री दीपक त्रिवेदी, (आई0 ए0 एस0) अध्यक्ष,राजस्व परिषद  
4 डा0 गुरदीप सिंह, (आई0 ए0 एस0) प्रशासनिक सदस्य 0522-2217104
5 श्री सुजीत कुमार, (आई0 ए0 एस0) सदस्य न्यायिक 0522-2217110
6 श्री आमोद कुमार, (आई0 ए0 एस0) सदस्य न्यायिक 0
7 श्री आनंद कुमार सिंह, (आई0 ए0 एस0) सदस्य न्यायिक 0522-2217129
8 श्री हरिशंकर उपाध्याय,(आई0 ए0 एस0) सदस्य न्यायिक 0532-2421086
9 श्री रजनीश गुप्ता, (आई0 ए0 एस0) आयुक्त एवं सचिव 0
10 श्री दिग्विजय सिंह , (आई0 ए0 एस0) निदेशक (भूमि अध्याप्ति) 0522-2217114
11 श्री राजेश कुमार , (आई0 ए0 एस0) अपर भूमि व्यवस्था आयुक्त 0522-2217130
12 श्री एस0 के0 राय0 अपर आयुक्त लेखा 0522-2217126
13 श्री भीष्म लाल वर्मा,(पी0सी0एस0) उप भूमि व्यवस्था आयुक्त 0522-2217120
14 श्री जंगबहादुर,(पी0सी0एस0) उप भूमि व्यवस्था आयुक्त 0522-2217122
15   उप भूमि व्यवस्था आयुक्त 0522-2217123
16 श्रीमती रीना सिंह,(पी0सी0एस0) स्टाफ ऑफिसर (माननीय अध्यक्ष) 0522-2217117
17 श्रीमती गरिमा स्वरूप,(पी0सी0एस0) सहायक भूमि व्यवस्था आयुक्त 0522-2217121
18 श्री सुनील झा, (पी0सी0एस0) ओ0 एस0 डी0 0522-2217206
19 श्री राजेश कुमार त्रिपाठी तकनीकी निदेशक(एन0आई0सी0) 0522-2217155
20   प्रलेखीकरण अधिकारी 0522-2217185
21 श्री विनय कुमार मिश्रा ओ0 एस0 डी0 0522-2217188

Contact Us

इस लेख के माध्यम से आपको उत्तर प्रदेश भूलेख से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की गई है। अगर इसके बाद भी आपको किसी भी तरह की समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो आप हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके अपनी सभी समस्याओं का समाधान कर सकते हैं। आप निम्न हेल्पलाइन नंबर और ईमेल आईडी के माध्यम से सहायता प्राप्त कर सकते हैं-

  • Computer Cell Board Of Revenue Lucknow, Uttar Pradesh
  • E-mail Id- [email protected]
  • Helpline Number- 0522-2217145

Official Links



thank you

Leave a Reply

Your email address will not be published.