Agneepath Yojana पात्रता, रिजर्वेशन व चयन प्रक्रिया

Author:


Agneepath Yojana Apply Online | अग्निपथ योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन | Agneepath Bharti Yojana एप्लीकेशन फॉर्म डाउनलोड | Agniveer Yojana पात्रता व चयन व आयु सीमा

किसी भी देश की सुरक्षा की जिम्मेदारी वहाँ की सेना की होती है, जिसके लिए सेनाकर्मी अपनी जान की परवाह किये बिना देश की सेवा में लगें रहते हैं। मंगलवार को रक्षा मंत्री द्वारा Agneepath Yojana की घोषणा की गयी है, जिसके माध्यम से देश के युवा अग्निवीर के रूप में सेना में भर्ती लेकर देश-सेवा कर सकते हैं। इसलिए इस योजना को अग्निवीर सेना भर्ती योजना या Agniveer Yojana के नाम से भी जाना जाता है। इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ जी के साथ तीनों सेना के प्रमुख आर्मी चीफ जनरल मनोज पांडे, एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी, नौसेना चीफ एडमिरल आर हरि कुमार भी मौजूद थें। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से अग्निपथ स्कीम से सम्बंधित सभी आवश्यक जानकारी, जैसे:- उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता मापदंड, आवश्यक दस्तावेज, आवेदन की प्रक्रिया आदि के बारे में ज्ञान साँझा करेंगे। यदि आप भी अग्निपथ योजना 2022 से जुड़ी सभी महत्त्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो हमारे इस लेख के साथ अंत तक बने रहें। [यह भी पढ़ें- (रजिस्ट्रेशन) स्माम किसान योजना 2022: SMAM Yojana ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन पंजीकरण]

Table of Contents

Agneepath Yojana 2022

मंगलवार, 14 जून को रक्षा मंत्रालय द्वारा आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में रक्षा मंत्री द्वारा Agneepath Yojana की घोषणा की गयी है, जिसके अंतर्गत भारतीय युवा नागरिकों को सेना में भर्ती लेकर देश की सेवा करने का अवसर प्रदान किया जा रहा है। इस योजना के माध्यम से इच्छुक युवा सभी तीन सशस्त्र बलों:- भारतीय सेना, नौसेना अथवा वायु सेना में से अपनी इच्छानुसार किसी भी एक सेना के तहत अपनी सेवा प्रदान कर सकते है। अग्निपथ योजना 2022 के तहत चयनित नागरिकों को “अग्निवर” के नाम से पुकारा जायेगा एवं उन्हें सेना मे कुल चार वर्ष की अवधि हेतु अपनी सेवा प्रदान करनी होगी। केंद्र सरकार की Agneepath Sena Bharti के माध्यम से सेना की औसत उम्र, जोकि वर्तमान समय में 32 साल है, को आने वाले कुछ वर्षों में कम करके 26 साल करने का लक्ष्य रखा गया है। इस योजना के सम्बन्ध में युवाओ के मतभेदो को देखते हुए योजना में कुछ बदलाव करके इसे जल्द से जल्द लागु किये जाने की बात कही जा रही है। [यह भी पढ़ें- प्रधानमंत्री कर्म योगी मानधन योजना 2022 – PM Karam Yogi Mandhan Yojana]

अग्निवीरों की पहली बैच वर्ष 2023 में आरम्भ की जाएगी 

रक्षा मंत्री माननीय राजनाथ सिंह जी के द्वारा 14 जून को आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस बात की जानकारी प्रदान की गयी है कि कैबिनेट मंत्रालय ने Agneepath Yojana को हरी झंडी दिखा कर मंजूरी दे दी गयी है। केंद्र सरकार द्वारा आगामी 90 दिनों के भीतर ही इस योजना के अंतर्गत पहली भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी एवं पहली बैच वर्ष 2023 में आरम्भ की जाएगी। इस योजना के माध्यम से देश के प्रमुख रक्षाबलों:- भारतीय सेना, भारतीय वायु सेना एवं भारतीय नौसेना के अंतर्गत युवा नागरिकों की भर्ती चार वर्ष के कार्यकाल हेतु की जाएगी। केंद्र सरकार की इस योजना के अंतर्गत चयनित युवाओं को अग्निवीर के नाम से जाना जायेगा एवं उन्हें सैनिक बनने हेतु उचित प्रशिक्षण भी प्रदान किये जायेंगे। [यह भी पढ़ें- Driving Licence (DL)| Apply Online Learning Licence at sarathi.parivahan.gov.in]

Agneepath Yojana

PM Modi Yojana

केंद्र सरकार अग्निपथ योजना को वापस लेने के पक्ष में नहीं

भारतीय सेनाओ की एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में तीनो सेनाओ के प्रमुखों द्वारा एक मीडिया कर्मी के सवाल के जवाब में यह स्पष्ट कर दिया गया की केंद्र अथवा भारतीय सेना किसी भी परिस्थिति में अग्निपथ योजना को वापस लेने के पक्ष में नहीं है। सेना द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार कुछ लोग इस योजना के संबंध में गलत प्रचार करके युवाओ को भटकाने का कार्य कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने यह भी जानकारी दी की संयुक्त सेनाये सशस्त्र बलों की बढ़ती आयु और पेंशन खर्चो को कम करने के लिए बहुत पहले से इस योजना को अम्ल में लाने की तैयारी कर रही थी।

  • बताते चले की अग्निवीरो की भर्ती की प्रक्रिया 24 June 2022 से तीनो सेनाओ की आधिकारिक वेबसाइट पर आरम्भ कर दी जाएगी।
  • पहले बैच में संयुक्त सेनाओ में लगभग 48,000 सशस्त्र बलों की भर्ती की प्लानिंग की जा रही है जिसके लिए जल्द ही गाइडलाइन जारी कर दी जाएगी।
  • एक सवाल के जवाब में सेनाधिकारियों से योजना के सम्बन्ध में दंगो और प्रदर्शन में चिन्हित किये गए युवाओ की भर्ती पर सवाल किये गया जिसके जवाब में उन्होंने ऐसे युवाओ की किसी भी परिस्थिति में सेना में स्थान न होने की बात कही है।

अग्निवीरों को वेतन के साथ प्राप्त होने वाले भत्ते 

केंद्र सरकार की Agneepath Yojana के तहत भर्ती किये गए अग्निवीरों को वार्षिक वेतन के साथ ही कुछ अन्य भत्तों के लाभ भी प्रदान किये जायेंगे। इस योजना के माध्यम से अग्निवीरों को वेतन के साथ-साथ रिस्‍क एंड हार्डशिप, राशन, ड्रेस और ट्रैवल एलाउंस जैसे भत्तों की सुविधा भी उपलब्ध की जाती है। इसके साथ ही यदि अग्निवीर अपने सेवा के दौरान डिसेबल हो जाता है तो इस स्थिति में उसे नॉन-सर्विस पीरियड का फुल पे और इंट्रेस्‍ट प्रदान किया जायेगा। रक्षा मंत्रालय की इस योजना के अंतर्गत अग्निवीरों को सेवा निधि भी प्रदान की जाती है, जो बिल्कुल टैक्स फ्री होती है। भारतीय सशस्त्र बलों में अग्निवीरों द्वारा प्रदान की गयी सेवा कार्यकाल हेतु 48 लाख रुपये का गैर-अंशदायी जीवन बीमा कवर की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। इसके अलावा अग्निवीर इस योजना के तहत ग्रेच्युटी और पेंशन संबंधी लाभों के पात्र नहीं माने जायेंगे। [यह भी पढ़ें- PM Kisan Status 2022: pmkisan.gov.in List (11वीं किस्त), Beneficiary Status & e-KYC]

अग्निपथ योजना के उद्देश्य

कैबिनेट समिति द्वारा मंजूर किये गए अग्निपथ योजना 2022 का मुख्य उद्देश्य भारतीय सशस्त्र बलों में देश के युवाओं की नियुक्ति करना है। इसके साथ ही इस योजना के माध्यम से रक्षा बलों के खर्च और आयु प्रोफाइल को भी कम करने का प्रयत्न किया जायेगा। रक्षा मंत्रालय की इस योजना के माध्यम से युवा नागरिक देश के प्रमुख सशस्त्र बलों में अपनी सेवा देने के स्वप्न को आसानी से पूर्ण कर सकते है, जिसके लिए उन्हें किसी भी प्रकार की प्रवेश परीक्षा देने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। अग्निपथ योजना के अंतर्गत चयनित युवा उम्मीदवारों को सशस्त्र बलों में अपनी सेवा प्रदान करने हेतु दो साल के लंबे प्रशिक्षण से गुजरना होगा एवं उनकी सेवा की अवधी चार वर्ष की होगी। केंद्र सरकार की इस योजना के माध्यम से युवों को प्रशिक्षण देने एवं सेवानिवृत्ति के साथ ही पेंशन लागत को भी कम किया जा सकता है, जिससे रक्षा बलों के खर्च में भारी गिरावट देखने को मिलेगी। [यह भी पढ़ें- (PMGKY) प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना: ऑनलाइन आवेदन व एप्लीकेशन फॉर्म]

कॉर्पोरेट उद्योगों एवं बहुराष्ट्रीय निगमों में कार्य करने का अवसर 

केंद्र सरकार की Agneepath Yojana 2022 के तहत सशस्त्र बलों से सेवा मुक्त अग्निवीरों को रोजगार के विभिन्न विकल्प उपलब्ध कराये जायेंगे एवं उन्हें अन्य सहयोगी सुरक्षाबलों की भर्ती में प्रतिकमिकता दी जाएगी। प्रशिक्षित और अनुशासित अग्निवीरों को अपने उद्योगों में नियुक्त करने हेतु देश के अनेक कॉर्पोरेट उद्योग एवं बहुराष्ट्रीय निगम अपनी-अपनी रुचि दिखा रही हैं। इसके लिए कॉर्पोरेट उद्योग एवं बहुराष्ट्रीय निगम रक्षा बालों से सीधे संपर्क कर रही है। रक्षा मंत्रालय द्वारा इस योजना के माध्यम से सशस्त्र बलों के खर्चों में करोड़ों रुपए तक की बचत होने का अनुमान लगाया गया है। इसके साथ ही रिकॉर्ड के अनुसार वर्तमान समय में सेनाओं में उपलब्ध लगभग 1.25 लाख रिक्तियों पर नियुक्ति की जाने की संभावना व्यक्त की गयी है। [यह भी पढ़ें- (रजिस्ट्रेशन) प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 2022: PMKVY ऑनलाइन आवेदन व पंजीकरण फॉर्म]

योजना से सम्बंधित भ्रांति एवं उनके तथ्य

  • सेवामुक्त होने पर अग्निवीरों का भविष्य असुरक्षित:- अग्निपथ योजना के तहत चयनित अग्निवीरों को उनके चार वर्ष के सेवा कार्यकाल के पश्चात सेवा सेवानिर्वित्त कर दिया जायेगा। सेवानिर्वित्त अग्निवीरों के उज्जवल भविष्य हेतु केंद्र सरकार उन्हें रोजगार के अन्य अवसर प्राप्त करने में मदद करेगी। ऐसे सभी सेवानिर्वित्त अग्निवीर जो उद्यमी बनना चाहते है, उन्हें केंद्र सरकार द्वारा वित्तीय सहायता एवं बैंक ऋण उपलब्ध की जाएगी। केंद्र सरकार द्वारा इच्छुक अग्निवीरों को आगे की शिक्षा प्राप्त करने हेतु उन्हें बारहवीं कक्षा के समरुप प्रमाण पत्र प्रदान किया जायेगा, जिसकी सहायता से वें ब्रिज कोर्स कर सकेंगे। साथ ही साथ रोजगार प्राप्त करने के इच्छुक अग्निवीरों को केंद्रीय रक्षा बलों एवं राज्य सुरक्षा बलों में रोजगार हेतु प्राथमिकता दी जाएगी। इसके साथ ही भारत सरकार द्वारा कई अन्य विभिन्न क्षेत्रों को भी अग्निवीरों की नियुक्ति हेतु खोलें जायेंगे, जिससे उन्हें रोजगार के अवसर आसानी से प्राप्त हो सकेंगे। 
  • युवाओं को कम अवसर प्राप्त होंगे:- केंद्र सरकार द्वारा आरम्भ की गयी Agneepath Scheme के अंतर्गत ऐसे सभी युवा नागरिक जो अग्निवीर बनेंगे, उन्हें सशक्त सैन्य बलों में नियुक्त होने का अवसर प्राप्त होगा। इस योजना के माध्यम से रक्षा मंत्रालय वर्तमान समय में सशक्त सैन्य बलों में मौजूद सैनिकों की संख्या से तीन गुना अधिक अग्निवीरों की भर्ती की जाएगी।
  • रेजिमेंटल निष्ठा प्रभावित होगी:- प्रदर्शनकारियों का ऐसा कहना है कि इस योजना के आरम्भ होने से रेजिमेंटल निष्ठा को हानि पहुँचेगी, परन्तु ऐसा कदापि नहीं होगा। रक्षा मंत्रालय द्वारा रेजिमेंटल प्रणाली में कोई भी फेर-बदल नहीं किया जायेगा, बल्कि अग्निवीरों के भर्ती से यह प्रणाली और भी अधिक सशक्त होगी। 
  • सैन्य बलों की कार्य क्षमता होगी प्रभावित:- विश्व ऐसे सभी देश जहाँ नागरिकों को सैन्य सेवा देना अनिवार्य होता है, उनमें से ज्यादातर देशों में नागरिकों द्वारा प्रदान की जाने वाली इस सैन्य सेवा की अवधि बहुत कम निर्धारित की जाती है। भारत सरकार द्वारा शुरू की गयी इस योजना के तहत पहले वर्ष कुल सैन्य बल के केवल तीन प्रतिशत संख्या में ही अग्निवीरों की भर्ती की जाएगी। चयनित अग्निवीरों द्वारा प्रदान किय गए उनके चार वर्ष के सेवा कार्यकाल के प्रदर्शन के आधार पर उन्हें जाँचा जायेगा एवं योग्य पाए जाने पर ही उन्हें पुनः रक्षा बलों में स्थायी सैनिक के तौर पर नियुक्त किया जायेगा, जिससे भारतीय सशस्त्र बलों को अनुभवी सैनिक मिल सकेंगे।
  • कम आयु के कारण सैनिक विश्वसनीय नहीं होंगे:- विश्व के ऐसे सभी देश जहाँ नागरिकों द्वारा सैन्य सेवा देना अनिवार्य होता है, वहाँ की सेना में ज्यादातर युवा सैनिक ही होते है। ऐसे में यह कहना की सैनिक की आयु कम होने की वजह से वह विश्वसनीय नहीं होंगे, गलत होगा। भारत सरकार द्वारा आरम्भ की गयी Agneepath Scheme के माध्यम से भारतीय सशस्त्र बलों में अनुभवी वरिष्ठ अधिकारी एवं युवा अग्निवीरों को सामान अनुपात में शामिल किया जा सकेगा।

अग्निपथ स्कीम 2022 के अंतर्गत मिलने वाले पैकेज के अन्य लाभ 

  • कुल वार्षिक पैकेज:- रक्षा मंत्रालय द्वारा आरम्भ की गयी अग्निपथ योजना के माध्यम से चयनित अग्निवरों को प्रथम वर्ष  4.76 लाख रुपये की वित्तीय राशि वार्षिक वेतन के रूप में प्रदान की जाएगी एवं अंतिम वर्ष अर्थात चौथे वर्ष वार्षिक वेतन में वृद्धि करते हुए  6.92 लाख रुपये की धनराशि प्रदान की जाएगी। 
  • भत्ता:- इस योजना के तहत अग्निवीरों को रक्षा बलों में नियुक्त स्थायी सैनिकों को मिलने वाले सभी भत्तों के समरुप ही भत्ते प्रदान किये जायेंगे। 
  • सेवा निधि:- अग्निवीरों द्वारा अपनी मासिक आय की तीस प्रतिशत धनराशि को सेवा निधि में जमा करवाना अनिवार्य होगा। इसके साथ ही केंद्र सरकार द्वारा भी अग्निवीरों के योगदान के समरुप की धनराशि सेवा निधि में प्रदान की जाएगी। सेवा निधि में जमा हुए 11.71 लाख रुपए की राशि अग्निवीरों को उनके सेवा मुक्त होने पर प्रदान की जाएगी, जो पूरी तरह से टैक्स फ्री होगी। 
  • मृत्यु पर मुआवजा:- रक्षा मंत्रालय द्वारा आरम्भ की गयी Agneepath Scheme के अंतर्गत अग्निवीरों को 48 लाख रुपये का गैर अंशदाई जीवन बीमा कवर उपलब्ध किया जाता है। यदि किसी भी कारण से अग्निवीरों की मृत्यु उनके सेवा कार्यकाल के दौरान हो जाती है तो इस परिस्थिति में 44 लाख की अतिरिक्त अनुग्रह राशि एवं सेवा निधि घटक सहित चार वर्ष के अप्राये युक्त हिस्से का भुगतान किया जायेगा। 
  • विकलांगता की स्थिति में मुआवजा:- यदि अग्निवीर अपने सेवा कार्यकाल के दौरान किसी भी कारण से अपंग हो जाते है तो इस स्थिति में अग्निवीरों को चिकित्सा अधिकारियों द्वारा निर्धारित विकलांगता के प्रतिशत के आधार पर मुआवजा उपलब्ध किया जाता है। अग्निवीरों को उनकी विकलांगता के प्रतिशत (100/75/50) के आधार पर लोक निधि से एकमुश्त अनुग्रह राशि 44/25/15 लाख रुपये की धनराशि प्रदान की जाती है। 
  • सेवा कार्यकाल पूर्ण होने पर:- इस योजना के अंतर्गत अग्निवीरों को उनके चार वर्ष के सेवा कार्यकाल के पश्चात सेवा मुक्त कर दिया जायेगा, जिसके बाद उन्हें सेवा निधि की  11.71 लाख रुपए प्रदान किये जायेंगे। इसके साथ ही सेवामुक्त अग्निवीरों को कौशल का प्रमाण पत्र, सम्मान एवं पुरष्कार भी प्रदान किये जायेंगे। साथ ही साथ इच्छुक अग्निवीरों को उच्चतर शिक्षा प्राप्त करने हेतु क्रेडिट का प्रावधान भी किया जाएगा।

Agneepath Yojana से संबंधित कुछ अन्य महत्वपूर्ण जानकारियाँ 

  • अग्निपथ योजना 2022 के अंतर्गत अग्निवीरों को प्रत्येक वर्ष 30 दिन की वार्षिक अवकाश एवं डॉक्टरी सलाह अनुसार बीमारी के लिए अवकाश प्रदान किये जायेंगे। 
  • इस योजना के तहत सेवा अग्निवीरों को सेवा अस्पताल के माध्यम से स्वास्थ्य सुविधा भी उपलब्ध की जाएगी। 
  • रक्षा मंत्रालय द्वारा आरम्भ की गयी इस योजना के अंतर्गत अग्निवीरों को अपने चार वर्ष के सेवा कार्यकाल के पूर्ण होने से पूर्व सेवा मुक्त होने की अनुमति नहीं दी जाएगी। 
  • अग्निवीरों को समय से पूर्व सेवा मुक्त होने की अनुमति केवल कुछ अपवाद स्वरुप  मामलों में सक्षम प्राधिकारी के अनुमोदन द्वारा ही प्रदान किया जायेगा। 
  • यदि अपवाद स्वरुप  मामलों में अग्निवीरों सेवा मुक्त हो जाते है तो इस स्थिति में उन्हें सेवा निधि में केवल उनके द्वारा दिए गए योगदान की राशि उपार्जित ब्याज सहित प्रदान कर दी जायेगी। 
  • इस योजना के तहत अग्निवीर कॉर्पस फंड का भी निर्माण किया जायेगा, जिसमें अग्निवीरों एवं केंद्र सरकार द्वारा सामान रुप से योगदान दिया जायेगा। 
  • अग्निवीर कॉर्पस फंड में जमा हुई धनराशि को अग्निवीरों को उनके सेवा कार्यकाल से मुक्त होने के समय प्रदान की जाएगी। 
  • केंद्र सरकार की इस योजना के माध्यम से चयनित अग्निवीर को किसी भी अन्य सरकारी पीएफ में अपना योगदान देने की आवश्यकता नहीं होगी। 
  • इसके साथ ही अग्निविर स्थायी सैनिकों को प्राप्त होने वाली पेंशन एवं उपहारों की सुविधा प्राप्त करने के पात्र नहीं माने जायेंगे।  

अग्निपथ स्कीम के अंतर्गत डिस्चार्ज 

  • रक्षा मंत्रालय द्वारा प्रारम्भ की गयी Agneepath Yojana 2022 के अंतर्गत भर्ती किये गए अग्निवीरों द्वारा भारतीय सशस्त्र बलों में कुल चार वर्ष की सेवा प्रदान करने के पश्चात उन्हें सेवानिर्वित कर दिया जायेगा। 
  • इसके साथ ही चार वर्ष के सेवा कार्यकाल पूर्ण होने के पश्चात सेवानिर्वित अग्निवीरों को सेवा निधि की राशि का भुगतान किया जायेगा। 
  • इस योजना के तहत सेवानिर्वित अग्निवीरों को स्थायी सैनिकों की भाँति किसी भी प्रकार की पेंशन अथवा ग्रॅज्युएटी की सुविधा प्रदान नहीं की जाएगी।
  • केंद्र सरकार की इस योजना के अंतर्गत सेवा मुक्त हुए अग्निवीर भूतपूर्व सैनिक अंशदायी स्वास्थ्य योजना, कैंटीन स्टोर विभाग की सुविधा, भूतपूर्व सैनिक की स्थिति एवं सेना में नियुक्त स्थायी सैनिकों को प्रदान किए जाने वाले अन्य लाभ को प्राप्त करने के हकदार नहीं होंगे। 
  • यदि अग्निवीर रक्षा बलों की गुप्त जानकारी को सार्वजनिक अथवा किसी से साझा करते है तो इस परिस्थिति में ऑफिशल सीक्रेट एक्ट, 1923 के तहत उन पर कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

अग्निपथ योजना 2022 के अंतर्गत अग्निवरों द्वारा पूर्ण किये जाने वाले चिकित्सा मानक

देश के ऐसे युवा उम्मीदवार जो केंद्र सरकार  द्वारा जल्द ही आरम्भ की जाने वाली Agneepath Yojana के तहत भारतीय सशस्त्र बलों में भर्ती होना चाहते है, उन्हें रक्षा मंत्रालय द्वारा निर्धारित चिकित्सा मानकों पर खरा उतरना अनिवार्य होगा। इस योजना के अंतर्गत भारतीय वायु सेना में अग्निवर बनने हेतु केवल ऐसे युवा नागरिकों को ही पात्र माना जायेगा जो संबंधित श्रेणियों अथवा ट्रेडों की चिकित्सा शर्तों को पूर्ण करने में सफल हो पाएंगे। इसके साथ ही कोई भी स्थायी निम्न चिकित्सा श्रेणी का अग्निवीर चिकित्सा श्रेणी में रखे जाने के बाद अपनी नियुक्ति को जारी रखने के लिए पात्र नहीं होगा। [यह भी पढ़ें- नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट 2022: नई MGNREGA कार्ड सूची, NREGA Card डाउनलोड]

Overview of the Agneepath Yojana

योजना का नाम अग्निपथ सेना भर्ती योजना
आरम्भ की गयी रक्षा मंत्रालय द्वारा
वर्ष  2022
लाभार्थी भारत के युवा नागरिक 
आवेदन की प्रक्रिया  जल्द ही जारी की जायेगीं 
उद्देश्य   प्रमुख सशस्त्र बलों में युवा नागरिकों की भर्ती करना
लाभ सशस्त्र बलों में नियुक्ति
श्रेणी  केंद्र सरकारी योजनाएं 
आधिकारिक वेबसाइट  Joinindianarmy.nic.in

अग्निवीरों को प्राप्त होने वाला वेतन 

रक्षा मंत्रालय की Agneepath Yojana 2022 के तहत चयनित अग्निवीरों को पहले वर्ष 4.76 लाख रुपये की धनराशि वार्षिक वेतन के रुप में उपलब्ध की जाती है। इसके साथ ही अग्निवीरों को उनके कार्यकाल के अंतिम वर्ष अर्थात चौथे वर्ष वार्षिक वेतन में वृद्धि हो कर 6.92 लाख रुपये तक हो जाती है। साथ ही साथ इस योजना के माध्यम से अग्निवीरों को रिस्क और हार्डशिप संबंधित भत्तों के लाभ भी प्रदान किये जायेंगे। केंद्र सरकार की इस योजना के अंतर्गत अग्निवीरों के चार वर्ष के कार्यकाल की समाप्ति के पश्चात उन्हें सेवा निधि के रुप में 11.7 लाख रुपये की धनराशि भी प्रदान की जाएगी, जोकि पूर्ण रुप से टैक्स फ्री होगा। इसके साथ ही सेवानिर्वित अग्निवीरों को 48 लाख रुपये का जीवन बीमा कवर भी प्रदान किया जायेगा एवं अग्निवीरों की मृत्यु की दशा में भुगतान न किए गए सेवा हेतु वेतन सहित 1 करोड़ रुपये से अधिक होगा। [यह भी पढ़ें- RCH Portal 2022: rch.nhm.gov.in Login, Self Registration & Online Status]

    वर्ष            मासिक वेतन         कैश इन हैंड
  प्रथम वर्ष           30000 रुपये         21000 रुपये
  दूसरे वर्ष          33000 रुपये          23100 रुपये 
  तीसरे वर्ष         36000 रुपये          25580 रुपये
  चौथे वर्ष         40000 रुपये          28000 रुपये

अग्निपथ योजना 2022 से सम्बंधित अनुसूची

नौसेना में भर्ती हेतु अधिसूचना दिनांक 25 जून 2022
नौसेना प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने हेतु पहले बैच की भर्ती  21 नवंबर 2022
वायु सेना के तहत पंजीकरण प्रक्रिया की शुरुआत  24 जून 2022
वायु सेना के तहत चरण 1 के लिए ऑनलाइन परीक्षा का प्रारंभ 24 जुलाई 2022
वायु सेना प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहले बैच की भर्ती 30 दिसंबर 2022
सेना में भर्ती हेतु अधिसूचना दिनांक 20 जून 2022
बल की विभिन्न भर्ती इकाइयों द्वारा अधिसूचना दिनांक 1 जुलाई 2022
सेना के तहत भर्तियों के दूसरे लॉट में शामिल होने की तिथि   23 फरवरी 2023

सेवा निधि पैकेज से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

  • अग्निपथ स्कीम 2022 के तहत भर्ती किये गए अग्निवीरों को उनके चार वर्ष के कार्यकाल के पूर्ण हो जाने के पश्चात उन्हें सेवा निधि द्वारा 11.71 लाख रुपए की राशि प्रदान की जाएगी। 
  • इस सेवा निधि में अग्निवीर एवं सरकार दोनों के द्वारा सामान धनराशि का योगदान किया जायेगा। 
  • यदि अग्निवीर को उनके सेवा कार्यकाल के पश्चात स्थायी सैनिक के रुप में नियुक्त कर दिया जाता है तो इस परिस्थिति में उन्हें सेवा निधि में केवल उनके द्वारा किये गए योगदान की राशि प्रदान की जाएगी। 
  • इसके साथ ही अग्निवीरों द्वारा सेवा कार्यकाल की अवधि पूर्ण होने से पूर्व इस्तीफ़ा दे दिया जाता है तो इस स्थिति में भी उन्हें सेवा निधि में केवल उनके द्वारा किये गए योगदान की राशि ही प्रदान की जाएगी। 
  • अग्निवीरों को प्राप्त होने वाली सेवा निधि की राशि पूर्ण रुप से टैक्स फ्री होगी। 
  • केंद्र सरकार की इस योजना के तहत अग्निवीरों को किसी भी प्रकार का महंगाई भत्ता एवं सैन्य सेवा वेतन की सुविधा प्रदान नहीं किए जायेंगे। 
  • इस योजना के अंतर्गत अग्निवीरों को केवल रिस्क एंड हार्डशिप, राशन, ड्रेस एवं यात्रा भत्ता ही उपलब्ध किये जायेंगे। 
  • इसके साथ ही इस योजना के तहत यदि अग्निवीर अपनी दसवीं कक्षा की शिक्षा पूर्ण करने के पश्चात भारतीय रक्षा बल में भर्ती होता है तो उन्हें उनके चार वर्ष के सेवा कार्यकाल की अवधि के पूर्ण होने पर 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने का प्रमाण पत्र प्रदान किया जायेगा।

अग्निवीर कौशल प्रमाण पत्र

अग्निपथ स्कीम के अंतर्गत युवाओं को उनके चार साल के कार्यकाल की समाप्ति पर एक विस्तृत कौशल-सेट प्रमाण पत्र प्रदान किया जाएगा, जिसमें अग्निवीर द्वार प्रदान की गयी सेवा की अवधि के दौरान हासिल किए गए कौशल एवं योग्यता के स्तर पर प्रकाश डाला जाएगा। अग्निवीर इस कौशल प्रमाण पत्र का उपयोग नागरिक नौकरियों को प्राप्त करने हेतु कर सकेंगे। [यह भी पढ़ें- सुकन्या समृद्धि योजना 2022 | PM Kanya Yojana Form, इंटरेस्ट रेट कैलकुलेटर]

अग्निवीर के मृत्यु का वर्गीकरण

प्रावधान के प्रयोजन के लिए मृत अग्निवीरों को मिलने वाले वित्तीय लाभों को निम्नानुसार वर्गीकृत किया जाएगा:-

  • श्रेणी एक्स:- इस श्रेणी के तहत अग्निवीरों के कार्यकाल के अवधि में अथवा बढ़ाई गयी सेवा की अवधि में उनकी मृत्यु प्राकृतिक कारणों से होने पर शामिल किया जाता है। 
  • श्रेणी वाई:- अग्निवीरों की मृत्यु कार्यकाल अथवा बढ़ाई गयी कार्यकाल के दौरान सैन्य सेवा, प्रशिक्षण अथवा कर्तव्यों के प्रदर्शन के समय  किसी दुर्घटना में होने पर, उनकी मृत्यु को श्रेणी वाई के तहत विभाजित किया जाता है। 
  • श्रेणी जेड:- अग्निवीरों के कार्यकाल की अवधि में आतंकवादियों, असामाजिक तत्वों द्वारा हिंसा/हमले के कृत्यों के लिए, दुश्मन, सीमा पर झड़पों/युद्ध/शांति अभियान के दौरान/नागरिक शक्ति को सहायता और परिचालन तैयारी और प्रशिक्षण के दौरान युद्ध के लिए इनोक्यूलेशन प्रशिक्षण/अभ्यास सहित युद्ध के लिए तथा प्राकृतिक आपदाओं/संचालन के कारण आकस्मिक मृत्यु विशेष रूप से सरकार आदि द्वारा अधिसूचित कारणों को श्रेणी जेड में वर्गीकृत किया जाता है।

चार वर्ष के कार्यकाल के पश्चात प्राप्त होगा सेवा निधि पैकेज

अग्निपथ योजना 2022 के अंतर्गत चयनित अग्निवीरों के कार्यकाल में उनके वेतन से प्रत्येक माह एक निश्चित राशि अग्निवीर कॉर्प्स फंड में जमा की जाएगी एवं वेतन से कटी राशि के समरुप की धनराशि केंद्र सरकार द्वारा भी प्रति माह अग्निवीर कॉर्प्स फंड में जमा की जाएगी। लाभार्थी अग्निवीरों को उनके चार वर्ष की सेवा प्रदान किये जाने के पश्चात सेवानिर्वित्त कर दिया जायेगा, जिसके बाद उन्हें अग्निवीर कॉर्प्स फंड में जमा जमा की गयी राशि ब्याज सहित सेवा निधि के रुप में प्रदान की जाएगी। सेवा निधि की यह राशि 11.71 लाख रुपये की होगी, जो पूर्ण रुप से टैक्स फ्री होगी। [यह भी पढ़ें- स्वामित्व योजना 2022: PM Swamitva Yojana ऑनलाइन पंजीकरण, लाभ, पात्रता]

सेवा निधि पैकेज

Agneepath Scheme 2022 के तहत भारतीय रक्षा बलों में होने वाली भर्तियाँ 

रक्षा बल पहले से दूसरे साल तीसरे साल चौथे साल
भारतीय थल सेना 40000 45000 50,000
भारतीय वायु सेना 3500 4400 5300
भारतीय नौसेना 3000 3000 3000

अग्निवीरों का रिक्रूटमेंट

  • रक्षा मंत्रालय द्वारा आरम्भ की गयी Agneepath Yojana 2022 के अंतर्गत भारतीय सशस्त्र बलों में अग्निवीरों के चयन हेतु कोई भी अन्य मॉडल का पालन नहीं किया जायेगा। 
  • अभी तक जिस मॉडल एवं नियमानुसार रक्षा बलों में स्थायी सैनिकों की नियुक्ति की जाती है, ठीक उसी प्रकार अग्निवीरों का भी चयन किया जायेगा। 
  • इस योजना के माध्यम से अग्निवीरों की भर्ती करने हेतु रक्षा मंत्रालय द्वारा पुरे देश में सेना के चयन केंद्र स्थापित किये गए है। 
  •  रक्षा मंत्रालय द्वारा स्थापित किये गए चयन केंद्रों द्वारा ही अग्निवीरों की भर्ती की जाएगी।

Agneepath Yojana के अंतर्गत अग्निवीरों का चयन

केंद्र सरकार द्वारा आरम्भ की गयी अग्निपथ योजना 2022 के तहत अग्निवीरों का चयन एक पारदर्शी नियुक्ति प्रक्रिया के माध्यम से किया जायेगा एवं अग्निवीरों को रक्षा बलों द्वारा निर्धारित किये गए चिकित्सा मापदंडों को पूर्ण करना अनिवार्य होगा। इस योजना के माध्यम से चयनित अग्निवीरों के चार साल के सेवा कार्यकाल की अवधि पूर्ण हो जाने पर प्रत्येक बैच से 25% अग्निवीरों को शास्त्र बालो में स्थायी सैनिकों के रूप में नियुक्त करने हेतु नामांकित किया जाएगा। इसके साथ ही चयनित अग्निवीरों को किसी भी रेजिमेंट में नियुक्त किया जा सकता है एवं उन्हें उनके कार्यकाल हेतु सम्मान और पुरस्कार भी प्रदान किए जायेंगे। इस योजना के माध्यम से वायु सेना में चयनित अग्निवीरों को उच्च कौशल प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा एवं नौसेना में चयनित अग्निवीरों को जहाजों, पनडुब्बियों आदि पर नियुक्त किया जायेगा। साथ ही साथ इस योजना के तहत चयनित महिला अग्निवीरों को नौसेना में सेलर के रुप में नियुक्त किया जायेगा। [यह भी पढ़ें- ehrms upsdc.gov.in Registration, Login, eHRMS Manav Sampada UP

अग्निपथ योजना के तहत चयन प्रक्रिया

  • केंद्र सरकार द्वारा आरम्भ की गयी इस योजना के तहत उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा, शारीरिक परीक्षण, साक्षरता आदि से गुजरना पड़ेगा। 
  • उम्मीदवारों द्वारा दिए गए परीक्षाओं के आधार पर सशस्त्र बलों द्वारा एक मेरिट लिस्ट तैयार की जाएगी, जिसके आधार पर अग्निवीरों का चयन किया जायेगा।

देश के युवा नागरिकों को सेना में कम समय हेतु भर्ती होने का अवसर 

रक्षा मंत्रालय द्वारा अग्निपथ योजना 2022 के माध्यम से देश के युवाओं को सशस्त्र बलों में अपनी सेवा प्रदान करने का सुअवसर प्रदान किया जा रहा है। इस योजना के माध्यम से युवा नागरिक रक्षा बालों में चार वर्ष तक अपनी सेवा प्रदान कर सकते है। केंद्र सरकार की इस योजना के तहत अग्निवीरों के चार वर्ष के कार्यकाल के बाद उनकी समीक्षा की जाती है। समीक्षा के पश्चात चयनित अग्निवीरों में से 75% सैनिकों को सेवनिर्वित्त कर दिया जाता है एवं 25% अग्निवीरों को सेना में भर्तियाँ उपलब्ध होने की स्थिति में स्थायी सैनिकों के रूप में नियुक्त कर दिया जाता है। इस योजना के अंतर्गत सेवा से मुक्त किये गए अग्निवीरों को विभिन्न रोजगार विकल्प उपलब्ध किये जाते है, जिसकी सहायता से वें अपने आगामी जीवन को सुरक्षित कर सकेंगे। इसके साथ ही कॉरपोरेट सम्बंधित विभिन्न कम्पनियाँ भी प्रशिक्षित एवं अनुशासित अग्निवीरों हेतु अपने कंपनियों में रोजगार प्रदान करने में रुचि दिखा रही है। [यह भी पढ़ें- विधवा पेंशन योजना पेमेंट स्टेटस 2022 | PFMS Widow Pension Status Online]

चार वर्षों हेतु सेना में की जाएगी भर्तियाँ 

अग्निपथ योजना के अंतर्गत देश के ऐसे युवा नागरिकों को रक्षा बालों में भर्ती होने का सुअवसर प्रदान किया जायेगा, जो अपने देश की सेवा करने का स्वप्न देखते है। इस योजना के तहत युवाओं को सशस्त्र बलों में शामिल हो कर अपने देश की सेवा एवं सुरक्षा करने का मौका दिया जायेगा, जिसके लिए उम्मीदवारों को कोई भी प्रवेश परीक्षा नहीं देनी पड़ेगी। रक्षा मंत्रालय की इस योजना के माध्यम से थल सेना, नौसेना एवं वायु सेना में युवाओं की भर्तियाँ चार वर्ष के कार्यकाल हेतु की जाएगी। इसके साथ ही चयनित उम्मीदवारों को अग्निवीर के नाम से पुकारा जायेगा एवं उन्हें किसी भी रेजिमेंट हेतु आवेदन करने की छूट प्राप्त होगी। युवाओं द्वारा चयनित रेजिमेंट में जाति, धर्म, क्षेत्र आदि के अनुसार अग्निवीरों की भर्ती नहीं की जाएगी। इस योजना के माध्यम से सेनाओं में सैनिकों की कमी की समस्या का निवारण होगा एवं सैनिकों पर होने वाले खर्चों में भी कमी देखने को मिलेगी। [यह भी पढ़ें- (NEP) नेशनल एजुकेशन पॉलिसी 2022: New Education Policy PDF, नई शिक्षा नीति]

आवेदन करने हेतु निर्धारित आयु सीमा 

अग्निपथ योजना 2022 के माध्यम से रक्षा मंत्रालय द्वारा सशस्त्र बलों में चार वर्षों के कार्यकाल हेतु देश के युवा नागरिकों की भर्ती की जाएगी। ऐसे युवा नागरिक जो इस योजना के माध्यम से रक्षा बालों में अपनी सेवा प्रदान करना चाहते है, उन्हें केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित आयु सिमा के पात्रता मापदंड को पूर्ण करना होगा। इस योजना के अंतर्गत देश के केवल ऐसे युवा नागरिक ही आवेदन करने के योग्य माने जायेंगे, जिनकी आयु 17 साल 6 महीने से लेकर 21 वर्ष के मध्य की है। इसके साथ ही चयनित अग्निवीरों को दस हफ्ते से लेकर छः महीने की प्रशिक्षण भी प्रदान की जाएगी। [यह भी पढ़ें- मिड डे मील योजना क्या है (मध्याह्न भोजन) | Mid Day Meal Scheme in Hindi]

विकलांगता की सीमा की गणना

विकलांगता या कार्यात्मक अक्षमता की सीमा का निर्धारण नि:शक्तता मुआवजे की गणना के उद्देश्य से निम्नलिखित तरीके से किया जाएगा:-

          क्रम संख्या    अंतत: स्वीकृत के रूप में विकलांगता का प्रतिशत विकलांगता मुआवजे की गणना हेतु प्रतिशत की गणना की जाएगी
      1         20% से 49% के बीच       50%
      2       50% से 75% के बीच       75%
      3       76% से 100% के बीच       100%

विकलांगता / मृत्यु का भुगतान

क्र संख्या                श्रेणी   अग्निवीरों के अधिकार
1 बोनाफाइड ड्यूटी पर कार्यकाल के दौरान मृत्यु (श्रेणी ‘वाई’/’जेड’) 48 लाख रुपये का बीमा कवरएकमुश्त अनुग्रह राशि 44 लाख रुपयेसेवा निधि घटक सहित चार वर्ष (मृत्यु की तारीख से प्रभावी) तक की अवधि के लिए पूर्ण वेतनअग्निवीर कॉर्पस फंड से ब्याज और सरकारी योगदान सहित व्यक्ति की सेवा निधि में जमा शेष राशि (तारीख के अनुसार)

2

कार्यकाल के दौरान ड्यूटी पर न होने पर मृत्यु (श्रेणी ‘वाई’/’जेड’) 48 लाख रुपये का बीमा कवरअग्निवीर कॉर्पस फंड से ब्याज और सरकारी योगदान सहित व्यक्ति की सेवा निधि में जमा शेष राशि (तारीख के अनुसार)
3 विकलांगता (कार्यकाल की शर्तों के कारण जिम्मेदार/बढ़ी हुई) अग्निवीर कॉर्पस फंड से ब्याज और सरकारी योगदान सहित व्यक्ति की सेवा निधि में जमा शेष राशि (तारीख के अनुसार)सेवा निधि घटक सहित चार वर्ष (मृत्यु की तारीख से प्रभावी) तक की अवधि के लिए पूर्ण वेतनविकलांगता के प्रतिशत (100/75/50) के आधार पर लोक निधि से एकमुश्त अनुग्रह राशि 44/25/15 लाख रुपये की धनराशि 

कार्य श्रेणी से सम्बंधित अन्य पात्रता मानदंड

        वर्ग       शिक्षा           आयु
सामान्य सैनिक ड्यूटी एसएसएलसी/ मैट्रिक 45% अंकों के साथउच्च योग्यता होने पर कोई प्रतिशत आवश्यक नहीं है

17.5 वर्ष से  21 वर्ष

तकनीकी सैनिक ड्यूटी विज्ञान में भौतिकी, रसायन विज्ञान, गणित और अंग्रेजी विषय के साथ 10+2/इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण 

17.5 वर्ष से  21 वर्ष

क्लर्क / स्टोरकीपर तकनीकी सैनिक किसी भी स्ट्रीम (कला, वाणिज्य, विज्ञान) में 10 + 2 / इंटरमीडिएट परीक्षा में 50% अंक एवं प्रत्येक विषय में न्यूनतम 40% अंक 

17.5 वर्ष से  21 वर्ष

नर्सिंग सहायक सैनिक विज्ञान में भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान और अंग्रेजी के साथ 10 + 2 / इंटरमीडिएट परीक्षा में न्यूनतम 50% अंक एवं प्रत्येक विषय में न्यूनतम 40% अंक

17.5 वर्ष से  21 वर्ष

सोल्जर ट्रेड्स मैन 17.5 वर्ष से  21 वर्ष
सामान्य कर्तव्य गैर मैट्रिक 17.5 वर्ष से  21 वर्ष
निर्दिष्ट कर्तव्य गैर मैट्रिक 17.5 वर्ष से  21 वर्ष

अग्निवरों को प्रदान की जाने वाली विभिन्न सेवाएँ एवं सुविधाएँ 

अग्निवरों को प्रदान की जाएगी वर्दी:- रक्षा मंत्रालय द्वारा प्रारंभ की जाने वाली Agneepath Yojana 2022 के माध्यम से रक्षा बालों में भर्ती किये जाने वाले अग्निवरों की गतिशीलता को प्रोत्साहित करने और पहचानने के लिए उनके कार्यकाल की अवधि में उनकी वर्दी पर विशिष्ट प्रतीक चिन्ह पहनने हेतु उपलब्ध की जाएगी। 

रोजगारपरकता:- इस प्रविष्टि के अंतर्गत आईएएफ द्वार निर्देशित संगठनात्मक हित में सौंपे गये किसी भी प्रकार के कर्तव्य हेतु नामांकित अग्निवरों को ही उत्तरदायी माना जायेगा। 

सम्मान और पुरस्कार:- भारतीय वायुसेना के लिए विषय को नियंत्रित करने वाले मौजूदा दिशानिर्देशों के अनुसार अग्निवीर सम्मान एवं पुरस्कार के हकदार होंगे। 

प्रशिक्षण:- नामांकित होने पर व्यक्तियों को सेना द्वारा संगठनात्मक आवश्यकताओं के आधार पर प्रशिक्षण प्रदान की जाएगी। 

आकलन:- भारतीय वायुसेना ‘अग्निवरों’ के एक केंद्रीकृत उच्च गुणवत्ता वाले ऑनलाइन डेटाबेस को बनाए रखने का प्रयास करेगी और एक पारदर्शी सामान्य मूल्यांकन पद्धति का पालन करेगी। निष्पक्ष मूल्यांकन सुनिश्चित करने के लिए एक वस्तुनिष्ठ मूल्यांकन प्रणाली की शुरुआत की जाएगी एवं अग्निवरों द्वारा प्राप्त कौशल को व्यवस्थित रूप से दर्ज किया जाएगा। अग्निवरों के पहले बैच की नियुक्ति से पहले व्यापक दिशा-निर्देश तैयार किए जाएंगे और बाद में किसी भी बदलाव के साथ इसे परिचालित किया जाएगा।

छुट्टी:- छुट्टी का अनुदान संगठन की अत्यावश्यकताओं के अधीन होगा, अग्निवरों के लिए उनके कार्यकाल की अवधि के दौरान निम्नलिखित अवकाश लागू हो सकते हैं:-

  • वार्षिक अवकाश:- 30 दिन प्रति वर्ष
  • सिक लीव:- डॉक्टरी सलाह के आधार पर

चिकित्सा और सीएसडी सुविधाएं:- भारतीय वायुसेना में अग्निवरों के कार्यकाल अवधि के लिए, अग्निवीर सेवा अस्पतालों में चिकित्सा सुविधा के साथ-साथ सीएसडी प्रावधानों के लिए भी हकदार होंगे।

स्वयं के अनुरोध पर रिलीज:- प्राधिकारी के अनुमोदन के साथ स्वयं के अनुरोध पर रिलीज होने से पूर्व अग्निवरों को असाधारण मामलों को छोड़कर, अपने चार वर्ष के कार्यकाल की अवधि पूरी करने की अनुमति नहीं होगी।

Agneepath Yojana का अन्य देशों के समान सेना नियुक्ति से तुलना

रक्षा मंत्रालय द्वारा आरम्भ की गयी अग्निपथ स्कीम का देश भर में युवा प्रदर्शनकारियों द्वारा विरोध किया जा रहा है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि अग्निवीरों द्वारा रक्षा बलों में चार वर्ष की सेवा प्रदान करने के पश्चात उन्हें सेवामुक्त कर देने पर उनके भविष्य का क्या होगा। इस योजना का विरोध कर रहे युवा प्रदर्शनकारियों को देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माननीय एनएसए अजीत डोभाल द्वारा वन टू वन इंटरव्यू के माध्यम से सन्देश दिया गया है। इस साक्षात्कार के माध्यम से एनएसए अजीत डोभाल  जी ने  Agneepath Scheme 2022 से सम्बंधित सभी तथ्यों पर खुल कर  बातचीत की है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से विश्व के ऐसे देशों की जानकारी प्रदान करेंगे, जहाँ देश के नागरिकों द्वारा सेना में सेवा प्रदान करना अनिवार्य होता है:- [यह भी पढ़ें- (आवेदन) फ्री सिलाई मशीन योजना 2022: रजिस्ट्रेशन फॉर्म, PM Free Silai Machine]

इजराइल

इजराइल के सभी नागरिकों को देश की मिलिट्री में अपनी सेवा देना आवश्यक होता है। नियमानुसार यहाँ पुरुष एवं महिला दोनों को सेना में भर्ती हो कर देश को सेवा प्रदान करना अनिवार्य होता है। पुरुष नागरिकों को तीन वर्ष एवं महिला नागरिकों को दो वर्ष मिलिट्री में अपनी सेवा प्रदान करना अनिवार्य होता है।

ब्राजील

यहाँ नागरिकों के 18 वर्ष की आयु पूर्ण कर लेने पर उन्हें सेना में सेवा प्रदान करना अनिवार्य होता है। नागरिकों को किसी भी प्रकार की चिकित्सीय परेशानी होने की दशा में ही उन्हें सेना में भर्ती होने के नियम पर छूट प्रदान की जाती है। ब्राजील में नागरिकों को 10 से 12 महीने की अवधि हेतु सेना में सेवा प्रदान करनी होती है। 

दक्षिण कोरिया

दक्षिण कोरिया में नागरिकों हेतु देश सेवा के लिए सख्त नियम निर्धारित किये गए है। इस देश में 18 वर्ष से लेकर 24 वर्ष के युवा नागरिकों को सेना में 21 माह, नौसेना में 23 माह एवं वायु सेना में 24 माह की सेवा देना अनिवार्य होता है। यदि देश के युवा नागरिक द्वारा एशियाई खेलों में गोल्ड जीता जाता है, तो केवल इसी स्थिति में उन्हें सेना में सेवा प्रदान करने के नियम से मुक्त किया जाता है। इसके साथ ही खिलाड़ियों द्वारा एशियाई खेलों में मेडल नहीं लाने की दशा में उन्हें वापस आ कर सेना में सेवा प्रदान करनी होगी। 

उत्तर कोरिया

इस देश के नागरिकों को पुरे विश्व के देशों की तुलना में सबसे लंबे समय अवधि हेतु  सेना में सेवा प्रदान करनी होती है। यहाँ पुरुष नागरिकों को कुल ग्यारह वर्ष एवं महिला नागरिकों द्वारा सात वर्ष की सेवा सेना में देना आवश्यक होता है। 

तुर्की

इस देश में 20 वर्ष की आयु पूर्ण कर लेने पर नागरिकों को सेना में अपनी सेवा प्रदान करना अनिवार्य होता है। यदि देश के युवा नागरिक शिक्षा ग्रहण कर रहें है तो इस परिस्थिति में उन्हें अपनी शिक्षा पूर्ण कर लेने के पश्चात सेवा देनी होती है। इसके साथ ही देश के ऐसे नागरिक जो 30 वर्ष या इससे अधिक समय से देश से बहार रह रहें है, वें एक तय शुल्क का भुगतान कर सैन्य सेवा से छूट प्राप्त कर सकते है। 

रूस

रूस के ऐसे नागरिक जिनकी आयु 18 वर्ष से लेकर 27 वर्ष के मध्य है, उनके द्वारा  12 माह की सैन्य सेवा प्रदान करना आवश्यक होता है।

सीरिया

इस देश में पुरुष नागरिकों द्वारा सेना में सेवा प्रदान करना अनिवार्य होता है, यदि कोई पुरुष नागरिक सैन्य सेवा देने से इंकार करता है अथवा बचता है, तो उन्हें जेल भेज दिया जाता है। महिला नागरिक वॉलंटियर सर्विस प्रदान कर सकती है। इसके साथ ही 2011 में देश के राष्ट्रपति बशर अल असद द्वारा वर्ष सेना में सेवा प्रदान करने की अवधि को 21 महीने से घटा कर 18 महीने कर दिया गया था। 

स्विट्जरलैंड

यहाँ 18 से 34 वर्ष के पुरुष नागरिकों को 21 सप्ताह की अवधि हेतु सैन्य सेवा प्रदान करनी होती है। स्विट्जरलैंड में महिला नागरिकों को इस सैन्य सेवा के नियम से मुक्त किया जाता है परन्तु महिला नागरिक अपनी इक्छा से सेना में भर्ती हो कर अपनी सेवा प्रदान कर सकती है।

अग्निपथ स्कीम 2022 से सम्बंधित अन्य तथ्य

  • इस योजना के अंतर्गत चार वर्ष के कार्यकाल पूर्ण हो जाने पर सक्षम अग्निवीरों को स्थायी सैनिक के रूप में नियुक्त करने की प्रक्रिया एक प्रकार की वैध संभावना है, जिसकी जाँच-पड़ताल किसी भी समय की जा सकती है।
  • अग्निपथ योजना 2022 के माध्यम से देश के ऐसे युवा नागरिकों को सेना में शामिल होने का अवसर प्रदान किया जायेगा, जो खुफिया एजेंसियों में अपनी जगह सुरक्षित करने में असमर्थ रहे हैं।
  • इसके साथ ही इस योजना के माध्यम से आईआईटी अथवा अन्य पेशेवर क्षेत्रों से सम्बंधित युवा रक्षा बालों के तहत थल सेना, नौसेना एवं वायु सेना में भर्ती हो सकेंगे।
  • इस योजना के तहत अग्निवीरों का चयन एक पारदर्शी नियुक्ति प्रक्रिया के माध्यम से किया जायेगा।
  • केंद्र सरकार द्वारा आरम्भ की गयी इस योजना के तहत युवा नागरिकों को सशस्त्र बलों में नियुक्त हो कर देश की सेवा करने का अवसर प्राप्त होगा। 
  • इसके साथ ही इस योजना के तहत चयनित अग्निवीरों को एक अच्छी वित्तीय पैकेज वेतन के रुप में उपलब्ध की जाएगी। 
  • अग्निवीरों के चार वर्ष के कार्यकाल के पश्चात उन्हें सम्मान और पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा।

Agneepath Yojana 2022 से सम्बंधित टर्म्स एंड कंडीशंस 

  • अग्निपथ योजना के अंतर्गत देश के युवा नागरिकों को कुल चार वर्षों के लिए भारतीय रक्षा बलों में भर्ती किया जायेगा। 
  • इस योजना के माध्यम से रक्षा बलों में भर्ती किये गए युवा उम्मीदवारों को अग्निवीर के नाम से पुकारा जायेगा, जिन्हे  एक अलग रैंक प्रदान की जाएगी। 
  • अग्निवीरों द्वारा चार वर्ष के कार्यकाल को पूर्ण कर लेने पर उन्हें सेवा मुक्त कर दिया जायेगा, जिसके पश्चात वह अपना स्थायी नामांकन करवा सकते है। 
  • सेवा मुक्त हुए अग्निवीरों में से 25% योग्य अग्निवीरों को स्थायी सैनिक के तौर पर भारतीय रक्षा बलों में नियुक्त कर दिया जायेगा। 
  • इसके साथ ही स्थायी नामांकन करवाने वाले अग्निवीरों की पात्रता की जाँच सेना के मौजूदा नियमों के अनुसार ही की जाएगी। 
  • केंद्र सरकार द्वारा इस वर्ष Agneepath Scheme 2022 के तहत कुल 46000 अग्निवीरों को भारतीय सशस्त्र बलों में भर्ती किया जायेगा। 
  • इसके साथ ही इस योजना के तहत उपस्थिति पंजी की प्रक्रिया ऑनलाइन केंद्रीकृत प्रणाली, रैली एवं परिसर साक्षात्कार के माध्यम से किया जायेगा। 
  • साथ ही साथ इस योजना के अंतर्गत अग्निवीरों का एनरोलमेंट ऑल इंडिया ऑल क्लासेज के आधार पर किया जायेगा। 
  • अग्निपथ योजना 2022 के तहत अग्निवीर बनने हेतु युवा नागरिकों की आयु 17.5 वर्ष से लेकर 21 वर्ष के बीच होनी चाहिए। 
  • अग्निवीर बनने हेतु युवा नागरिकों द्वारा न्यूनतम 10वीं कक्षा की शैक्षणिक योग्यता पर्याप्त करनी होगी। 

Agneepath Yojana 2022 के लाभ एवं विशेषताएं

  • केंद्र सरकार की इस योजना के तहत भर्ती होने के लिए उम्मीदवारों को किसी भी प्रकार के प्रवेश परीक्षा नहीं देनी होगी।
  • इस योजना के अंतर्गत उम्मीदवार थल सेना, नौसेना एवं वायु सेना में से किसी भी एक सेना में शामिल हो कर देश को अपनी सेवा प्रदान कर सकते है। 
  • केंद्र सरकार की Agneepath Yojana 2022 के तहत उम्मीदवारों को चार वर्ष की अवधी हेतु रक्षा बालों में नियुक्त किया जायेगा।
  • अग्निपथ आर्मी भर्ती योजना के माध्यम से चयनित युवाओं को अग्निवर के नाम से जाना जायेगा। रक्षा मंत्रालय की अग्निपथ योजना के माध्यम से देश के युवा नागरिकों को भारतीय सशस्त्र बलों में भर्ती होने का सुनहरा अवसर प्रदान किया जायेगा।  
  • रक्षा मंत्रालय की इस योजना के तहत अग्निवरों को पेशेवर सैनिक बनने हेतु आवश्यक प्रशिक्षण भी प्रदान किये जायेंगे। 
  • इसके साथ ही उम्मीदवारों को अपनी इच्छानुसार किसी भी रेजिमेंट के तहत आवेदन करने की आज़ादी प्राप्त होगी। 
  • इस योजना के तहत केवल 17.5 वर्ष की आयु से लेकर 21 वर्ष के युवा नागरिक ही आवेदन कर सकते है। 
  • अग्निवरों को चार वर्ष के कार्यकाल में दो वर्ष के लंबे प्रशिक्षण से गुजरना होगा एवं चार वर्ष की अवधि पूर्ण होने पर सैनिकों की समीक्षा की जाएगी। 
  • अग्निपथ योजना 2022 के अंतर्गत युवा उम्मीदवारों को 4.76 लाख रुपये की वार्षिक पैकेज प्रदान की जाएगी, जो अंतिम अर्थात चौथे साल में बढ़कर 6.92 लाख रुपये तक हो जाएगी। 
  • इसके साथ ही इस योजना के तहत अग्निवरों को रिस्क और हार्डशिप वाले भत्तों के लाभ भी प्रदान किया जायेगा। 
  • इसके साथ ही सैनिकों को उनके चार वर्ष के कार्यकाल के बाद उन्हें उनके सेवा से मुक्त कर दिया जायेगा। 
  • केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के अंतर्गत अग्निवरों को उनके कार्यकाल के बाद किसी भी प्रकार की पेंशन के स्थान पर एकमुश्त धनराशि का लाभ प्रदान किया जायेगा। 
  • अग्निवरों को 11.7 लाख रुपये की धनराशि  एकमुश्त राशि के रूप में उपलब्ध की जाएगी जो पूरी तरह से टैक्स फ्री होगी। 
  • इस योजना के माध्यम से अग्निवरों के पास सेवनिर्वित्त होने के पश्चात विभिन्न प्रकार के करियर विकल्प उपलब्ध होंगे, जिसकी सहयता से वें अपने आगे के जीवन को सुरक्षित कर सकते है। 
  • इसके साथ ही भारतीय सेना अग्निवरों को उनके कार्यकाल की अवधि पूर्ण हो जाने पर उन्हें स्थायी सैनिकों के रूप में भी नियुक्त कर सकते है। 
  • देश के विभिन्न कॉर्पोरेट उद्योगों एवं बहुराष्ट्रीय निगमों ने भी अग्निवरों को अपने संस्थानों में काम पर रखने की इच्छा व्यक्त की है। 
  • इस योजना के माध्यम से रक्षा बलों के खर्च और आयु प्रोफाइल को भी कम किया जायेगा। 

अग्निपथ सेना भर्ती योजना पात्रता मानदंड

किसी भी सरकारी योजना से मिलने वाले लाभों को प्राप्त करने हेतु आवेदकों को उस योजना से सम्बंधित कुछ पात्रता मापदंडों को पूर्ण करना आवश्यक होता है। इसी प्रकार रक्षा मंत्रालय द्वारा जल्द ही आरम्भ की जाने वाली Agneepath Army Recruitment Yojana के अंतर्गत लाभ लेने हेतु उम्मीदवारों को निम्न पात्रता मापदंडों को पूर्ण करना अनिवार्य होगा:-

  • अग्निपथ योजना 2022 के अंतर्गत मिलने वाले लाभों को उठाने के लिए उम्मीदवारों को भारत का स्थायी निवासी होना चाहिए। 
  • इच्छुक उम्मीदवारों की आयु 17.5 वर्ष से लेकर 21 वर्ष के मध्य होनी चाहिए। 
  • केवल ऐसे उम्मीदवार को ही इस योजना के तहत पात्र माना जायेगा, जिन्होंने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से प्रमाणित शिक्षा प्राप्त की हो। 
  • इस योजना के अंतर्गत 12वीं कक्षा में न्यूनतम 50% अंक प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों को ही योग्य माना जायेगा। 

Agneepath Yojana सम्बंधित आवश्यक दस्तावेज 

  • आधार कार्ड 
  • स्थायी निवास प्रमाण पत्र 
  • आयु प्रमाण पत्र 
  • 12वीं कक्षा के अंक पत्र 
  • पासपोर्ट साइज फोटो 
  • मोबाइल नंबर 

अग्निपथ योजना 2022 के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

इच्छुक युवा अग्निपथ योजना के लिए दिए गए आसान से चरणों को फॉलो करके अग्नीवर के रूप में सेना में अपना योगदान दे सकते हैं।

  • सबसे पहले आपको भारतीय वायुसेना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट के होमपेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको मेन्यू में अग्निवीर भर्ती के विकल्प पर क्लिक कर देना है। अब आपके सामने अग्नीवर भर्ती से सम्बंधित सभी जानकारी और दिशानिर्देश खुल जायेगा।
  • आपको इन सभी दिशानिर्देशों को पढ़कर चेकबॉक्स पर क्लिक करके आगे बढ़ जाना है जिसके बाद आपके सामने अग्निपथ योजना का आवेदन फॉर्म खुल जायेगा।
  • आपको इस फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकरियों को दर्ज कर देना है। इसके बाद आपको निर्धारित स्थान में सभी आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करके सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप दिए गए चरणों को फॉलो करके अग्निपथ योजना के लिए ऑनलाइन मोड में आवेदन की प्रकिया को पूरा कर सकते हैं।





thank you

Leave a Reply

Your email address will not be published.